Sarpanch Kaise Bane – गावं के सरपंच के लिए योग्यता, डाक्यमेन्ट, पावर, तनख्वा

Sarpanch Kaise Bane  – दोस्तों अगर आप गांव में रहते हैं तो यह जरूर जानते होंगे कि गांव में एक सरपंच होते हैं। जो गांव में लड़ाई झगड़े या फिर अलग-अलग तरह के मसले को सुलझाते हैं। सरपंच का काम यही होता है कि वह गांव के सभी लोगों में एकता बनाए रखें और गांव में लड़ाई झगड़ा ना होने दें। अब अगर ऐसी पावर किसी के हाथ में होगी तो वह आदमी कितना ताकतवर होगा यह आप समझ सकते हैं। ऐसे में कौन व्यक्ति सरपंच बनना नहीं चाहेगा। तो अगर आप भी सरपंच बनना चाहते हैं और यह जानना चाहते हैं कि Sarpanch Kaise Bane तो आप इस वक्त बिल्कुल सही जगह पर है।

Sarpanch Kaise Bane
Sarpanch Kaise Bane

आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको सरपंच कैसे बने के बारे में बताएंगे। साथ ही हम आपको यह भी बताएंगे कि सरपंच क्या होता है, सरपंच का काम क्या होता है, सरपंच बनने के लिए योग्यता कैसी होनी चाहिए, सरपंच का पावर क्या होता है और सरपंच को कितने पैसे वेतन के रूप में मिलते हैं। तो अगर आप यह सब जानना चाहते हैं तो हमारे इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ना ना भूले।

भारत में कुल कितने लोग सरकारी नौकरी करते है

Sarpanch Kya Hai

सरपंच एक सरकारी करमचारी होता है, जिसका काम गावं मे न्याय को बरकरार रखना होता है।

आज भी गावं मे समाज बहोत माइने रखता है, इसलिए गावं के लोग किसी भी लड़ाई या न्याय के लिए कोर्ट से पहले गाव के लोगों मे सलाह करना ज्यादा अच्छा समझते है। इसलिए गावं मे सरकार द्वारा पंचायत राज की स्थापना की गई है। पंचायत मे कुछ लोग होते है और हर व्यक्ति का अलग अलग काम होता है। जैसे मुखिया का काम गावं की तररकी देखना होता है उसी तरह सरपंच का काम गावं मे न्याय देखना होता है।

अगर गावं मे किसी भी तरह की घटना होती है तो आपको न्याय के लिए गावं के लोग सरपंच के पास जाते है और सरपंच का काम गावं की जनता को उचित न्याय दिलाना होता है।

आज हमारे देश मे गावं का विकास होन जरूरी है। इसलिए सरकार गांव के विकास के लिए कुछ लोगों को चुनती है जिसमें से एक पद सरपंच का भी है। सरपंच को सरकार इसलिए चुनती है ताकि वह गांव में एकता बनाए रखें और गांव में विकास के सारे कार्य को करें। 

हम आपको एक प्रमुख बात बता दें कि 1992 में संविधान के 73वें संशोधन से सरपंच के पद को और भी ज्यादा मजबूती मिली है। सरपंच अपने गांव के विकास के लिए सरकार से करोड़ों रुपए ले सकते हैं और गांव को विकसित बना सकते हैं। सरपंच का चुनाव वोटिंग सिस्टम से होता है और एक बार चुना गया सरपंच 5 सालों तक रहता है।

PM Kaise Bane : जानिए प्रधानमंत्री बनने की पूरी जानकारी

सरपंच कैसे बने | Sarpanch Kaise Bane

अगर आप सरपंच बनना चाहते हैं लेकिन आप नहीं जानते कि Sarpanch Kaise Bane तो घबराइए मत। आइए हम आपको नीचे कुछ आसान से स्टेप्स बताते हैं जिसके फॉलो करके आप सरपंच बन सकते हैं। 

  1. सबसे पहले आपको सरपंच बनने के लिए एक निश्चित समय पर फॉर्म भरना होगा। 
  2. उसके बाद आपको एक डेट दिया जाएगा उस डेट पर जाकर आपको अपना नामांकन कराना होगा। 
  3. नामांकन के बाद आपको सरकार की ओर से एक चुनाव चिन्ह मिलेगा। 
  4. उसके बाद एक निश्चित दिन को किसी सार्वजनिक जगह पर मतदान होगा। 
  5. मतपेटी को शाम को वहां से लेकर जाया जाएगा और किसी सुरक्षित जगह पर रखा जाएगा। साथ ही उस मतपेटी की रखवाली के लिए सीआरपीएफ के जवानों को भी तैनात किया जाएगा। 
  6. एक निश्चित दिन को मतपेटी खोला जाएगा और मत गिना जाएगा। 
  7. जिस प्रतिनिधि का मत सबसे ज्यादा होगा उसे विजई घोषित कर दिया जाएगा। 
  8. विजई उम्मीदवार को 5 से 10 दिन के भीतर ब्लॉक में बुलाया जाएगा और सरपंच के पद के लिए शपथ दिलाया जाएगा। 
  9. सरपंच को अपने ग्राम पंचायत की मुखिया से कुछ दिशा निर्देश दिए जाते हैं। उसके बाद सरपंच अपने कार्यों को बखूबी निभा सकते हैं। 

सरकारी और प्राइवेट नौकरी के बीच अंतर – Jobkijankari

Eligibility Criteria for Sarpanch

सरपंच बनने के लिए निम्न योग्यता होना आवश्यक है- 

  • आप जिस गांव के सरपंच बनना चाहते हैं आपको उस गांव का मूल निवासी होना बहुत जरूरी है।  
  • आप भारत के नागरिक होने चाहिए। 
  • सरपंच बनने के लिए न्यूनतम आयु 21 वर्ष होनी चाहिए। 
  • सरपंच बनने वाले उम्मीदवार का नाम उस गांव के मतदाता सूची में होना आवश्यक है। 
  • कोई भी सरकारी कर्मचारी सरपंच का चुनाव नहीं लड सकते। 

Sarpanch Chunav के लिए जरूरी दस्तावेज

आइए अब हम आपको बताते हैं कि सरपंच चुनाव के लिए आपके पास कौन कौन से दस्तावेज होने जरूरी है तब आप सरपंच का चुनाव लड़ सकेंगे।  

  • उम्मीदवार के पास आधार कार्ड होना चाहिए। 
  • उम्मीदवार का अपना मतदाता पहचान पत्र भी होना आवश्यक है। 
  • उम्मीदवार की दो बच्चों का शपथ पत्र भी होना जरूरी है। 
  • उम्मीदवार का चरित्र प्रमाण पत्र होना चाहिए। 
  • निवास प्रमाण पत्र भी होना आवश्यक है। 
  • उम्मीदवार का जातीय होना जरूरी है। 
  • उम्मीदवार के पास पैन कार्ड भी होना जरूरी है। 
  • जो भी उम्मीदवार सरपंच के लिए खड़े हो रहे हैं उनके घर में शौचालय होना जरूरी है और उनके पास शौचालय शपथ पत्र भी होना आवश्यक है। 
  • जो कि सरपंच में खड़ा हो रहा है उनके पास वर्तमान का पासपोर्ट साइज फोटो और आय प्रमाण पत्र होना जरूरी है। 
  • इन सबके अलावा आपके पास एनओसी भी होना चाहिए जो कि आपको अपने ग्राम पंचायत से मिल जाएगा। 

Sarpanch Ka Power 

सरपंच किसी गावं का एक मुखिया होता है जिसकी जीमेदारी गवँ मे न्याय को बरकरार रखना होता है। सरपंच का मुख्य काम गावं के किसी मसले या लड़ाई झगड़े के लिए सही फैसला देना और उचित न्याय करना होता है। सरपंच के इस काम के वजह से उसकी गावं मे काफी इजात होती है।

आमतौर पर अगर देखा जाए तो सरपंच का पावर यही होता है कि गांव में किसी भी मसले को सरपंच सुलझा सकता है। अगर गांव के किसी दो व्यक्तियों के बीच में झगड़ा हुआ है तो सरपंच झगड़े को शांत करता है। अगर सरपंच चाहे तो उनमें से किसी एक को सजा भी दे सकता है। सरपंच अपने गांव का विकास कर सकता है और विकास से संबंधित वह सारे कार्य कर सकता है जो उसको उचित लगे। 

Sarpanch की तनख्वा – Salary of Sarpanch

किसी भी गवँ के सरपंच को सरकार की तरफ हर महीने 5000 से 8000 रुपए की राशि तनख्वा के रूप मे दी जाती है। मगर किसी सरपंच के लिए ये कमाई बहोऊत काम है इस पद की मुख्य कमाई गवँ के विकास के लिए आने वाले फंड से होती है।

अभी तक किसी भी राज्य सरकार के द्वारा सरपंच के लिए निश्चित वेतन का प्रावधान नहीं रखा गया है। लेकिन कुछ जगहों पर सरपंच को वेतन के रूप में कुछ मानदेय दिया जाता है। हमें जानकारी मिली है कि कई जगहों पर सरपंच को मानदेय के रूप में 5000 से ₹8000 तक दिया जाता है। 

Sarpanch बनने के फायदे – Benefits of Sarpanch

सरपंच बनने से कुछ फायदे होंगे और इस पद पर मिलने वाले फायदे की एक संचिपट सूची नीचे दी गई है –  

  • अगर आप सरपंच के पद पर नियुक्त रहते हैं तो आपको गांव के सभी लोगों के द्वारा इज्जत मिलता है। 
  • अगर आप सरपंच हैं तो आपको हर महीने 5000 से 8000 तक रुपए भी वेतन के रूप में मिलता है। 
  • आपको अपने गांव के विकास करने का और अपने गांव की सेवा करने का मौका मिलता है। 

सरपंच बनने से जुड़े कुछ आवश्यक सवाल (FAQ)

Q. सरपंच बनने के लिए न्यूनतम आयु कितनी होनी चाहिए? 

सरपंच बनने के लिए न्यूनतम आयु 21 वर्ष होनी आवश्यक है। 

Q. सरपंच का कार्यकाल कितने दिनों का होता है?

सरपंच का कार्यकाल 5 साल तक का होता है।

Q. सरपंच का चुनाव कैसे होता है? 

सरपंच का चुनाव मत के द्वारा किया जाता है। 

Q. क्या सरकारी नौकरी वाले सरपंच बन सकते हैं?

नहीं, कोई भी सरकारी कर्मचारी सरपंच नहीं बन सकता है। 

निष्कर्ष

आज हमने आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से Sarpanch Kaise Bane के बारे में जानकारी दी है। इसके अलावा हमने आपको यह भी बताया कि सरपंच बनने के लिए कितनी योग्यता होना चाहिए और सरपंच बनने के लिए कौन कौन से दस्तावेज होने जरूरी है। 

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया और यह जानकारी आपको समझ में आ गई। तो आप इसे अपने मित्रों के साथ साथ अपने सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले। 

Leave a Comment