साल में दो बार होने जा रही है बोर्ड की परीक्षा

Board Exams 2023: भारत के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की तरफ से नई शिक्षा नीति के तहत कुछ बहुत महत्वपूर्ण बदलाव किए गए हैं। सरकार की तरफ से निर्धारित किया गया है कि इस नई शिक्षा नीति में किए गए परिवर्तनों को वर्ष 2025 से लागू किया जाएगा।

आपको बता दे ऐसे सभी छात्र-छात्रा है जो वर्ष 2020-24 में अपने बोर्ड की परीक्षा देने वाले हैं उनके लिए यह नियम लागू नहीं हो रहा है। परंतु कक्षा 11वीं और कक्षा नौवीं के छात्र-छात्राओं के लिए यह सभी परिवर्तन बहुत मान्य है। नई शिक्षा नीति के तहत सरकार की तरफ से साल में दो बार बोर्ड परीक्षा ली जाएगी। इस विषय से संबंधित सभी जानकारी को विस्तार पूर्वक जानने के लिए आज के इस लेख से बनी रहिए अंत तक।

Name of Article होने जा रहे है साल में दो बोर्ड एक्साम्स
वर्ष 2024
लाभार्थी 10वि और 12वि के विद्यार्थी
मंत्रालय शिक्षा विभाग
राज्य पुरे देश में लागु
लाभ नयी शिक्षा निति के तेहत विद्यार्थियों को दो बार बोर्ड की परीक्षा देने का मौका मिलेगा
उद्देश्य किसी भी विद्यार्थी का बोर्ड एग्जाम नही छुटेगा

नई शिक्षा नीति के महत्वपूर्ण परिवर्तन: Board Exams 2023

  • दो बार होगी बोर्ड की परीक्षा

जी हां नई शिक्षा नीति के तहत तब तक का सबसे महत्वपूर्ण सबसे बड़ा परिवर्तन यही है कि अब दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षा दो बार ली जाएगी। आपको बता दे दोनों ही परीक्षाएं विद्यार्थियों के लिए बहुत आवश्यक होगी और उन्हें इन दोनों परीक्षाओं में बैठना आवश्यक होगा।

Must Read:

प्रवेसिकोत्तर छात्रवीर्ति योजना 2023 | Bihar Chhatravriti Yojana के लिए जल्दी आवेदन करें

Sabse Aasan Govt Job : भारत की सबसे आसान सरकारी नौकरी, कोई भी कर सकता है आवेदन

  • बारी बारी कर सकेंगे विषय का चयन

जी हां आपने बिल्कुल सही सुना विद्यार्थी अपनी इच्छा अनुसार विषय का चयन करके बोर्ड की परीक्षा दे सकेंगे। कहने का तात्पर्य यह है कि यदि आप चाहे तो पूरे 6 विषय की बोर्ड परीक्षा एक बार में ही दे सकते हैं। या फिर दोनों बार आप 6-6 विषय की परीक्षा दे सकते हैं। जिस एग्जाम में आपको अच्छे नंबर प्राप्त होंगे आपके रिजल्ट में इस अंक को अंकित किया जाएगा।

  • तैयारी के अनुसार दे बोर्ड की परीक्षा

सरकार की तरफ से किए गए परिवर्तनों में नई शिक्षा नीति के अनुसार यदि कोई विद्यार्थी चाहे तो पहले बोर्ड की परीक्षा में केवल तीन विषय की परीक्षा दे सकते हैं और दूसरी बार ली जा रही बोर्ड परीक्षा में बाकी के तीन विषय की परीक्षा दे सकते हैं। इससे आपको पूरे साल भर का सिलेबस एक बार में नहीं पढ़ना होगा। बारी बारी तैयारी के अनुसार आप अपने विषय का चयन करके बोर्ड की परीक्षा दे सकेंगे।

  • रिजल्ट में अंकित किए जाएंगे अधिक अंक

यदि आपने दोनों बार कंडक्ट करवाई गई बोर्ड परीक्षा में 6-6 विषय की परीक्षा दी है तो ऐसी स्थिति में आखिर कौन से अंक आपको रिजल्ट में लिखे हुए प्राप्त होंगे। आपको बता दे ऐसी परिस्थिति में आपने दोनों बोर्ड परीक्षाओं में से जीस बोर्ड परीक्षा में ज्यादा प्रतिशत प्राप्त किए हैं उसे आपके रिजल्ट में अंकित किया जाएगा।

  • फेल हुए स्टूडेंट का क्या होगा

जैसा कि हमने आपको बताया नई शिक्षा नीति के तहत कई परिवर्तन ले आएग गए हैं। ऐसे में बोर्ड की परीक्षा दो बार ली जाएगी और दोनो हीं परीक्षा में बैठना आवश्यक है। यदि स्थिति ऐसी होती है की पहली बोर्ड की परीक्षा में कोई विद्यार्थी उत्तीर्ण नहीं हो पाता है तो उनके लिए बहुत अच्छी खबर है। दूसरी बार ली जा रही बोर्ड परीक्षा में कड़ी मेहनत करके वे इसी साल उत्तीर्ण हो सकते हैं इससे उनका एक साल बर्बाद नहीं होगा।

  • यदि एक परीक्षा छूट जाए तो क्या करें 

आपको बता दे यदि किसी कारणवश कोई विद्यार्थी अपने पहले बोर्ड की परीक्षा छोड़ देते हैं तो क्या वह अपनी दूसरी बोर्ड की परीक्षा दे सकते हैं। जैसा कि हमने बताया 1 साल में दो बोर्ड की परीक्षा ली जा रही है ऐसी स्थिति में यदि किसी कारणवश आपका पहला बोर्ड का एग्जाम छूट जाता है तो चिंता की कोई बात नहीं है। आप दूसरी बार परीक्षा में बैठकर अच्छे अंक प्राप्त कर सकते हैं और पहली बार के अनुसार आपको फेल नहीं किया जाएगा।

  • पहली बार एग्जाम देकर 6 महीने में बोर्ड पास हो सकते हैं

आपको बता दे यदि कोई विद्यार्थी पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं और बोर्ड के एग्जाम्स देने के बाद कोई अच्छी तैयारी करना चाहते हैं ऐसी स्थिति में उनके लिए सरकार की तरफ से एक विशेष सहूलियत ले आई गई है। यदि किसी विद्यार्थी ने केवल 6 महीने में अपना पूरा सिलेबस कर कर लिया है तो वह पहली बार के बोर्ड एग्जाम में पूरे 6 विषय की परीक्षा देकर बोर्ड पास आउट कर सकते हैं। इसके बाद वे अपने किसी अगले कॉम्पिटेटिव एक्जाम की तैयारी इस वर्ष में कर सकेंगे।

  • इच्छा अनुसार विषय का चयन भी होगा संभव

विद्यार्थियों को नई शिक्षा नीति के तहत एक और बहुत बड़ा परिवर्तन दिया जा रहा है। यदि किसी विद्यार्थी ने दो विषयों की तैयारी पूरी कर ली है तो ऐसी स्थिति में वे केवल उस दो विषय की बोर्ड परीक्षा दे सकते हैं। उसके बाद दूसरी बार में उन्हें केवल चार विषयों के लिए परीक्षा देनी होगी। ठीक इसी प्रकार यदि आप चाहे तो पहली बार में पांच विषयों की परीक्षा देकर दूसरी बार के लिए केवल एक विषय की भरपूर तैयारी भी कर सकते हैं। इससे विद्यार्थियों को पूरा सिलेबस कवर करने की टेंशन नहीं होगी।

  • हटाए गए स्ट्रीम सिस्टम 

सरकार की तरफ से सरिता सिस्टम को पूरी तरह से समाप्त कर दिया गया है। ऐसा इसलिए किया गया है ताकि विद्यार्थी अपने रुचि के अनुसार विषय का चयन करके परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त कर सके और अपने रुचि के अनुसार अपना भविष्य बना सकें। अब दसवीं की परीक्षा उत्तीर्ण होने के बाद आपको आर्ट साइंस या कॉमर्स में से किसी एक स्ट्रीम का चयन नहीं करना है। बल्कि आपको केवल अपनी इच्छा अनुसार विषयों का चयन करना है जैसे की मैथ, बायोलॉजी, कंप्यूटर आदि। विद्यार्थियों को किसी प्रकार से स्ट्रीम्स में नहीं बाटा जाएगा। सभी विद्यार्थी 11वीं के विद्यार्थी होंगे एवं अपने इच्छा अनुसार विषय का चयन करके पढ़ाई पूरी करेंगे।

  • इंग्लिश और हिंदी अति आवश्यक विषय

जी हां सरकार की तरफ से दोनों ऑफिशियल भाषाओं को मुख्य मेन सब्जेक्ट में कंसीडर किया गया है। सभी विद्यार्थियों को दो भाषा पढ़नी जरूरी है। आपको बता दे पहले हिंदी भाषा सभी विद्यार्थियों के लिए समान रहेंगे। इसके बाद आप चाहे तो अपनी इच्छा अनुसार इंग्लिश में परिवर्तन कर सकते हैं।

  • कैसे चुना जाए दूसरी भाषा का विषय

यदि आप चाहे तो अंग्रेजी की भाषा को अपने राज्य की भाषा में भी परिवर्तन कर सकते हैं। जैसे अगर आप बिहार से हैं तो अंग्रेजी भाषा को भोजपुरी में बदलकर भोजपुरी की पढ़ाई भी कर सकते हैं। ठीक उसी प्रकार अगर आप चाहे तो अंग्रेजी भाषा को तमिल, कन्नड़, उड़िया किसी भी भाषा में परिवर्तन करके उसे विषय की पढ़ाई पूरी कर सकते हैं।

इसके साथ ही आपको बता दे यदि आप चाहे तो इंग्लिश को भी हिंदी में परिवर्तित करके दो हिंदी के विषय पढ़ सकते हैं। तो इस प्रकार दो मुख्य भाषाओं के विषय कंपलसरी होंगे इसके अलावा तीन विषय आप अपनी इच्छा अनुसार चयन कर सकते हैं।

सरकार ने की आधिकारिक वेबसाइट पर जानकारी साझा

आपको बता दे अब तक हमने जो भी जानकारी दी है यह सभी जानकारियां सरकारी वेबसाइट पर भारतीय सरकार की तरफ से शिक्षा मंत्रालय के नेतृत्व में साझा की गई है। हालांकि इनमें से एक भी नियम इस वर्ष शुरू नहीं किए जाएंगे इसे 2025 के बोर्ड एग्जाम्स के समय शुरू किया जाएगा।

आपको बता दे ऑफिशल नोटिस जारी नहीं किया गया है जब ऑफिशल नोटिस जारी किया जाएगा तो कुछ और बड़े परिवर्तन देखने को मिल सकते हैं। परिवर्तनों की सभी अपडेट सबसे पहले अपने के लिए हमारे वेबसाइट से जुड़े रहे।

निष्कर्ष

यदि आपको आज हमारे द्वारा साझा की गई बोर्ड परीक्षा की परिवर्तनों की सभी जानकारियां महत्वपूर्ण लगी हो और पसंद आई हो तो कृपया इसे ज्यादा से ज्यादा विद्यार्थियों तक एवं विद्यार्थियों के माता-पिता तक साझा करें। ताकि वर्ष 2025 में बोर्ड एग्जाम देने वाले विद्यार्थियों को किसी प्रकार की समस्या से न जूझना पड़े। यदि आपको हमारे द्वारा बताई गई जानकारी में किसी प्रकार की त्रुटि लगी हो तो एक बार हमें कमेंट सेक्शन में जरूर बताएं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top